Breaking News

काशगंज हो या कश्मीर, तुस्टीकरण राजनीतिक समर्थन की चादर ओढ़ महफूज है अपराध व देशद्रोह…

दीनांक०३/०२/२०१८

         संपादकीय

बीते दिनों कासगंज में तिरंगा यात्रा के दौरान हुई हत्या की घटना पर सपा नेता रामगोपाल का बयान हो या कश्मीर में सेना पर हमले में सेना द्वारा आत्मरक्षा की जवाबी कारवाही पर राज्य सरकार का FIR ये सब प्रतिक्रियायें घटना में किये गए अपराध व राष्ट्रद्रोह को राजनैतिक समर्थन की चादर ओढ़ाकर ढकने व असल मुद्दों से ध्यान भटकाने के साथ ही अपराधियो व राष्ट्रद्रोहियो का हौसला बढ़ाने में सहायक होती है।
हम सभी भारतीय नागरिको को संविधान के प्रावधानों के अधीन अपने नागरिक दायित्व का निर्वाह करना होगा तभी हमारी​ लोकतांत्रिक व्यवस्था को मजबूती मिलेगी। इनमें से एक महत्वपूर्ण दायित्व राष्ट्रीय प्रतीकों और पर्वों के प्रति निष्ठा का प्रदर्शन करना भी है।इस दायित्व के निर्वाह में आने वाली किसी भी बाधा को दूर करने की जिम्मेदारी हमारी सरकार के साथ-साथ हमारे समाज की भी है।आजाद भारत के आजाद नागरिक चंदन गुप्ता और अन्य की हत्या से देश की व्यवस्था पर कलंक लगा है। जिन लोगों ने भी इस घटनाक्रम को अंजाम दिया है वे सभी भारतीय संविधान के दोषी है। उन्हें देशद्रोही मानकर कठोर दंड देने की जिम्मेदारी हमारी सरकार का है। आज देश भर में सभी भारतीय नागरिक यह मांग कर रहे है कि उन्हें चश्मा देने के बजाय हमारा समाज और हमारी सरकार इन दुष्टों को ऐसी सज़ा सुनाए जिससे इन जैसे देशद्रोही गद्दार लोगों को स्पष्ट संदेश मिले सके। भारत की सुरक्षा व शांति का सबसे बड़ा अवरोधी पाकिस्तान है।
ऐसे में हमारे देश का जी भी नागरिक पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगाएगा वो निश्चित ही देशद्रोही मानसिकता से ग्रषित ही होगा। समान्य सी बात है कि भारत मे रहकर पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे किसी भी राष्ट्रप्रेमी को स्वीकार नहीं होगी। सहिष्णुता के नाम पर एक भीरु राष्ट्र बनाने की साज़िश रचने वाले लोगों को बेनकाब करने की जिम्मेदारी सरकार के साथ-साथ समाज की भी है।
यह देश कोई सराय नहीं है। भारतभूमि को हमारे पूर्वजो व महापुरुषों ने अपना बलिदान देकर सींचा है। कासगंज में भारत माता की जय बोलने वाले कि हत्या व कश्मीर में सेना पे पत्थरबाजी जैसी घटनाओं का अंत अनिवार्य है।
आज जब पूरा देश हमारे देश को अस्थिर करने की कोशिश कर रहे देशद्रोही​यो को म्रृत्युदंड देने की मांग कर रहा है।
वही कुछ तुस्टीकरण राजनीति करने वाले नेता संसद व विधानसभाओ में राष्ट्रद्रोहीयो के खिलाफ हो रही कार्यवाही को अत्याचार बताकर राष्ट्रद्रोही अपराध को छुपाकर अपना राजनैतिक हित साधने के स्वप्न देख रहे है जो कि एक स्वस्थ लोकतांत्रिक व्यवस्था के लिए हानिकारक है।

लेख़क
संदीप चौरसिया

ताज़ा ख़बरों के लिए लॉगिन करे👇🏿
www.yoovabharat.com

अब अपने मोबाइल में ही निशुल्क खबर पाने के लिए डौनलोड करे हमारा युवाभारत समाचार ऐप्प गूगल प्ले स्टोर से वो भी बिल्कुल मुफ्त!!👉🏿👉🏿

https://play.google.com/store/apps/details?id=com.yoovabharat.smcwebsolution

 

About Rudra Pathak

Check Also

बहू के अंदर आया हौसला, की ससुर की समाजिक शिकायत ,सीओ त्रिपुरारी पांडेय का स्थानांतरण पड़ गया परिवार को महंगा

Share this on WhatsApp बहू के अंदर आया हौसला, की ससुर की समाजिक शिकायत ,सीओ …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *